योग तथा प्राकृतिक चिकित्सा मुहूर्त।

योग, प्राकृतिक चिकित्सा,कुंजलनेति,पंचकर्म का अभ्यास शुरू करने का मुहूर्त।

 चंद्रमा विचार:- स्वयं कि राशि से चंद्रमा चौथा छठा आठवां बारहवां नहीं होना चाहिए।

शुभ नक्षत्र :-अश्वनी ,रोहिणी, मृगशिरा,पुष्य,  हस्त चित्रा, स्वाति, अनुराधा, ज्येष्ठा, श्रवण।

वार विचार:- मंगलवार निषेध हैं।

तिथि विचार:- चतुर्थी नवमी चतुर्दशी तिथि निषेध हैं, श्राद्ध पक्ष होलाष्ठ निषेध है।

वैसे तो इन कर्मों में शुक्ल पक्ष ही श्रेष्ठ रहता है ज्यादा जरूरत हो तो चंद्रमा प्रभावित तिथियों का ही ग्रहण करें।