रजो दर्शन संस्कार मुहूर्त।

शुभ नक्षत्र :- अश्विनी,मृगशिरा,हस्त,चित्रा,,स्वाती,अनुराधा, उत्तराभाद्रपदा , उत्तराषाढा,उत्तराफाल्गुनि,श्रवण, धनिष्ठा , शतभिषा ,रेवती शुभ नक्षत्र होते हैं।

चन्द्रमा विचार:- ४,६,८,१२ वां नहीं होना चाहिए।

शुभ मास :- माघ ,फाल्गुन, मार्गशीर्ष, वैशाख ,ज्येष्ठ ,अश्विन।

पक्ष विचार :- सभी मास में शुक्ल पक्ष ।

तिथि :- रिक्ता(4,9,14) तथा अमावस्या वर्जित है।

वार:- सोमवार,बुधवार, गुरूवार,शुक्रवार ।

लग्न :- कोई भी हो सकता हैं ।