बीज बोने का मुहूर्त।

बीज बोना यानी कि नये जीवन की शुरूवात बड़े उत्साहपुर्वक प्रकृति कि पुजा करके शुरुआत कि जाती हैं। इस मुहूर्त का महत्व गर्भधारण संस्कार मुहूर्त के बराबर है।

चंद्रमा विचार:- ४,६,८,१२वां नहीं होना चाहिए।

शुभ नक्षत्र :-अश्विनी ,भरणी , कृतिका , रोहिणी , मृगशिरा ,आर्द्रा ,पुष्य ,आश्लेषा , मघा , पूर्वाफाल्गुनी , उत्तराफाल्गुनी ,हस्त , चित्रा , स्वाति , अनुराधा , ज्येष्ठा , मूल , पूर्वाषाढ़ा , उत्तराषाढा, धनिष्ठा , पूर्वाभाद्रपद , उत्तराभाद्रपदा ,रेवती ।

वर्जित नक्षत्र:- श्रवण, शतभिषा, पुनर्वसु, विशाखा ।

शुभ वार:- रविवार,सोमवार, बुधवार, बृहस्पतिवार, शुक्रवार, शनिवार ।
बीज बोने के लिए मंगलवार को शुभ नही माना जाता है।

शुभ तिथि १,२,३,५,६,७,८,१०,११,१२,१३,१५ ।

वर्जित तिथि:-४,,१४,ओर अमावस्या को छोड़ कर सभी तिथियां शुभ मानी गई हैं।