कोल्हू का मुहूर्त।

गन्ने का रस निकालने कि तथा कोल्हू चलाने का मुहूर्त।

शुभ तिथि: – रिक्ता(4,9,14)अमावस्या को छोड़कर सभी तिथि शुभ हैं।

चर लग्न शुभ फल दायी हैं।

शुभवार:- मंगलवार, शनिवार निषेध हैं।

लग्न शुद्धि, चंद्रमा शुद्धि परम आवश्यक है।

तिथि,वार, चंद्रमा, लग्न विचार करके कोल्हू चक्र से नक्षत्रों कि शुद्धि करने से मुहूर्त सिद्ध होता है।

कोल्हू नक्षत्र चक्र।

सूर्य नक्षत्र से गिरकर

1 से 4 नक्षत्र तक लक्ष्मी की प्राप्ति।

5से6 नक्षत्र तक हानि।

7से8 नक्षत्र तक सर्व लाभ।

9वां नक्षत्र क्षय।

10से14 नक्षत्र तक मृत्यु तुल्य कष्ट।

15से19 नक्षत्र तक शुभ फल दायक।

20से21 नक्षत्र तक पीड़ादायक।

22से27 नक्षत्र तक घन का नाश।