विद्याग्रहण आरंभ संस्कार मुहूर्त।

शुभ नक्षत्र:- अश्विनी,रोहिणी,मृगशिरा,आर्द्रा,पुनर्वसु,पुष्य,आश्लेषा,पुर्वाफाल्गुनी,पुर्वाषाढा,पुर्वभाद्रपद,उत्तराफाल्गुनी,उत्तराषाढा,उत्तराभाद्रपद,हस्त,चित्रा,स्वाती,श्रवण,धनिष्ठा,शतभिषा,अनुराधा,मूल,रेवती येसभी नक्षत्र शुभ होते हैं ।
शुभ तिथि:-२,३,५,६,१०,११,१२
शुभवार:- रविवार,गुरूवार,शुक्रवार
चंद्रमा ६,८,१२ में नही होना चाहिय।
सुर्य उत्तरायण में हों । अपने पुर्वजो के आशिर्वाद के साथ तथा गुरूजनो को प्रणाम करके विद्यारंभ करें। यह संस्कार उपनयन संस्कार के बाद किया जाता हैं ।इसमे गुरू शिष्य को पुरी तरह विश्वास का पात्र बनाकर विद्या ग्रहण कराना आरंभ करवाते हैं । कई जगहों पर इसी संस्कार को वेदारंभ संस्कार भी कहा गया है।