चुल्हा स्थापना मुहूर्त।

चुल्हे की स्थापना करते समय गृह स्वामी के चंद्रमा ,लग्न स्थिति इन सब का विचार करना चाहिए ।

विशेष अग्नि का वास जरूर ध्यान में रखें ।

वार विचार :- सभी वार शुभ माने गये है।

तिथि विचार:- रिक्ता(4,9,14) अमावस्या, श्राद्ध, होलाष्ट निषेध है।

चुल्हा स्थापना मुहूर्त चक्र।

सूर्य नक्षत्र से दिन नक्षत्र तक गिरने पर

नक्षत्र फल नक्षत्र गिनने पर

4 नक्षत्र नाश प्रद 1 से 4 नक्षत्र

4 नक्षत्र सुखप्रद 5 से 8 नक्षत्र

6 नक्षत्र दरिद्रता 9 से 14 नक्षत्र

4 नक्षत्र सुखप्रद 15 से 18 नक्षत्र

5 नक्षत्र श्री नाशक 19 से 23 नक्षत्र

4नक्षत्र पुत्र लाभ 24 से 27 नक्षत्र